मोदी के राम राज्य में सरकारी अस्पताल को कर देंगे राम नाम सत्य!

श्री गुरु ग्लोबल न्यूज छुरा :-छत्तीसगढ़ जिला गरियाबंद अंतर्गत, आने वाला ग्राम जरगांव से,, आपातकालीन स्थिति में मरीज भर्ती हुआ था 9 साल की मैरिज दुर्गा ध्रुव,, जिसको 108 के आपातकालीन स्थिति में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र छुरा में भर्ती कराया गया था,,, छुरा अस्पताल के द्वारा कुछ प्राथमिक उपचार करने के बाद तुरंत इसको यहां से इलाज नहीं होने की क्रिटिकल कंडीशन के होने के स्थिति को देखते हुए, यहां से रेफर करने की बात कहें,, यहां से उसे मरीज को रेफर कर दिया गया,। यह उपरोक्त जानकारी उनके अन्य परिजन को नहीं थी,, इसलिए 25 जनवरी दोपहर को उनके परिजन वहां देखने के लिए अस्पताल पहुंचे, वहां के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के कर्मचारियों के द्वारा परिजन के साथ दुर्व्यवहार किया गया,, मरीज का जानकारी पता करने के बाद कहा गया हमको कोई जानकारी नहीं है, यहां से मरीज रेफर हो गया है,, यहां इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है,, फिर नर्स के द्वारा बहस करने लग गया, फिर वहां के bmo से बात किए तब पता चल यहां से निजी स्वास्थ्य केंद्र में इस मरीज को रेफर किया गया है,। सरकारी अस्पताल स्वास्थ्य केंद्र छुरा के स्टाफ नर्स के द्वारा परिजन के साथ बहस बाजी हुआ,। फिर स्वास्थ्य विभाग के bmo, को बुलाया गया,, मरीज के परिजन को कहा गया, बच्चों को यहां अच्छे हालात में यहां से रेफर कर दिया गया है, बच्चा यहां इलाज की व्यवस्था नहीं थी, इसलिए यहां से रेफर कर दिया गया है, मरीज के परिजन नहीं कहा यही चीज शांति से बता देना चाहिए दुर्व्यवहार करने की क्या जरूरत है हमारी गलती थोड़ी है आपके अस्पताल में हर चीज का व्यवस्था यहां नहीं है,, छोड़ के अस्पताल में देखोगे तो यही मिलेगा कि यहां एक रेफर करने वाला अस्पताल है, सरकारी अस्पताल नाम मात्र प्राथमिक की दर्ज करने के लिए है, शासन को प्रशासन को चाहिए कि ऐसे अस्पताल को सीधे बंद कर देना चाहिए या सीधे लिख देना चाहिए सरकारी अस्पताल रेफर करने वाला अस्पताल, यहां इलाज करने की सुविधा अब बिल्कुल नहीं हो सकती सरकार के पास सरकारी अस्पताल अब कार्य क्षमता नहीं रही कि इलाज करवा सके,। सरकारी अस्पताल मतलब नर्स और डॉक्टर को जनता का पैसा का फिजूल खर्जी हो रहा है, इन लोगों का जनता का पैसा का बेवजह नुकसान हो रहा है, इनके पास अब इनके इलाज के लिए मरीज रखने की क्षमता नहीं है, इनके पास काम है ही नहीं बेवजह मरीज नहीं है तो टाइम पास करने के लिए अस्पताल में सामने बैठे ही रहेंगे पीछे अच्छा चाहिए कि शासन और प्रशासन को अस्पताल को ही बंद कर देना चाहिए।, अस्पताल को सीधे निजीकरण कर देना चाहिए। दिखाने के लिए जनता को दिखाने के लिए अस्पताल बिल्कुल नहीं रहना चाहिए। और यही बिल्कुल सच्चाई है। अधिकतर इलाज सरकारी योजनाओं से निजी क्षेत्र में हो रहा है तो सरकारी को सीधे बंद कर देना चाहिए।

श्री गुरु ग्लोबल न्यूज का , स्लोगन यही है कि जिएंगे तो शान से मरेंगे तभी शान से,, गरीब असहाय के लिए आवाज उठाना अगर गलत है तो पुलिस के डंडे भी खाएंगे,, अगर सिस्टम में कहां पर खराबी है तो सिस्टम से लड़ेंगे भी,,, जनता का पैसा क्यों इन लोगों के लिए बेवजह बर्बाद कर रहे हैं उनके पास काम नहीं है तो बेवजह हा ड्यूटी समय बर्बाद करने के लिए कुर्सी में बैठने के लिए क्यों दिया गया है क्योंकि उनके अस्पताल में तो कोई मरीज है ही नहीं जो मरीज़ जाते हैं सीधे रिफर कर देते हैं,। ऐसा अस्पताल जनता को दिखाने के लिए क्यों रखे हैं।, सरकारी अस्पतालों में मरीज के लिए बेहतर इलाज के लिए सुविधा ही नहीं है प्रशासन और प्रशासन को चाहिए सीधे बंद कर देना चाहिए।

guruglobal

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Have Missed!

0 Minutes
गरियाबंद छत्तीसगढ़ ज़िला गरियाबंद ब्रेकिंग-न्यूज राजनीति लोकसभा चुनाव शिक्षा
महिलाओं के सम्मान में, महासमुंद लोकसभा से डॉक्टर श्वेता शर्मा मैदान में।
0 Minutes
राजनीति लोकसभा चुनाव शिक्षा
कांग्रेस ने अंग्रेजों से आजादी दिलाया लेकिन अंग्रेजी कानून देश को अभी भी गुलाम रखी है।, लेकिन भाजपा ने भी कुछ नहीं किया ।
0 Minutes
ब्रेकिंग-न्यूज राजनीति लोकसभा चुनाव विधानसभा चुनाव शिक्षा
लोकतंत्र एवं जनाधार का हत्या पहले कांग्रेस कर चुकी है ,आज बीजेपी कर रही है इसमें कौन सी बड़ी बात है!
0 Minutes
International ब्रेकिंग-न्यूज राजनीति लोकसभा चुनाव शिक्षा
आचार संहिता लगते ही, पॉलिटिकल पार्टियों को छोड़ो सीबीआई ED भी इंडिया गठबंधन की ओर आ जाएगी!