एडीबी का रोड बन रहा है कि नमूना!

श्री गुरु ग्लोबल न्यूज मड़ेली:-मुड़ागांव से पांडुका लगभग 37 किलोमीटर से ,,,, 108 करोड़ से अधिक राशि मतलब 1 किलोमीटर रोड बनाने में 2 करोड़ से ज्यादा पैसा,, मुरूम और मिट्टी आसपास के गांव से तो एस्टीमेट में इतना पैसा क्यों,?, रेती कितने करोड़ का,,, रोड 2019 में स्वीकृत हुआ था,,,, 2 साल में पूरा करना था,, 2021 तक कंप्लीट हो जाना चाहिए था अब 2024 आने वाला है,, ठेका में नियम होता है समय अवधि पर कार्य नहीं करें तो उसके ऊपर ठेकेदार के ऊपर पेनाल्टी लगता है पेनल्टी किसके ऊपर लग रहा है? लेकिन यह रोड अभी भी कछुआ गति से चल रहा है,,, कहीं किसानों के खेतों में इनका डाला हुआ मिट्टी बारिश पानी, बहकर जा रहा है,, जहां रोड ऊंचा है किसानों के खेत में मिट्टी ना जाए उसके लिए रोड को पिचिंग करना है, रोड केवल अभी तक मात्र 20 किलोमीटर कंप्लीट हुआ है, वह भी बहुत अधूरा है किसानों के किनारे खेतों में पिंचिंग का कार्य नहीं हुआ है, जहां लिंक रोड ऊंचा हो गया है वहां पर मिट्टी डाल करके लेवल करना है किसानों को एवं आने जाने वालों को रोड ऊंचा हो जाने के कारण वहां चढ़ाने में दिक्कत होता है,, शासन और प्रशासन को चाहिए ऐसे ठेकेदार का टेंडर कैंसिल कर देना चाहिए जो समय अवधि पर कार्य पूरा नहीं कर सके,,, जितना काम किया है उतना का बिल भुगतान करके नया ठेका दे देना चाहिए,, ग्राम मड़ेली में नाली अधूरा छोड़ दिया है,, जहां नाली बनाना है वहां नाली नहीं बना है,,,, मड़ेली में नाली को अधूरा_अधूरा बनाया गया है,,,। नाली कहां पर से शुरू हो रहा है और कहां पर खत्म हो रहा है कोई पता नहीं बीच में छोड़ दिया गया है,, पानी किधर से आएगा और किधर जाएगा कोई पता नहीं,, इनके इंजीनियरों का नमूना ही बस दिख रहा है,। पता नहीं बड़े-बड़े गाड़ी में आकर पीडब्ल्यूडी के अधिकारी और कर्मचारी क्या देखते हैं,,, कोई पता नहीं,,,,।

कई जगह किसानों के बहकर मिट्टी जा रहा है कई जगह इनका कार्य एस्टीमेट के हिसाब से नहीं हुआ है, जबकि 1 किलोमीटर रोड में 2 करोड़ से अधिक पैसा स्वीकृत हुआ है इतना पैसा कहां जा रहा है कितना खर्च हो रहा है एस्टीमेट बनाने वाले इंजीनियर ही जाने,,,

जिनके पास रोड बनाने का ठेका का लाइसेंस होता है उसी को मिलता है और ऑनलाइन टेंडर होता है,, जिसके पास फावड़ा न कुदारी वह करें ठेकेदारी,, ठेकेदार के पास क्या सभी तरफ काम करने का वाहन गाड़ी मजदूर कर्मचारी है या नहीं यह पता नहीं,,, 2 साल में कंप्लीट हो जाना था 4 साल क्यों लग गय,, और अभी भी अधूरा है,,, लगता है 2025, लास्ट, में कंप्लीट होगा,,।

रोड बनाने के लिए मोरम का इस्तेमाल,,,।

कभी कहते हैं मडे़ली बस स्टैंड के पास जंक्शन बनाएंगे,, रोड दोनों साइड से कट होगा,,,,,,, फिर कहते हैं जो 400 मी रोड अधूरा है वह नहीं बनेगा,,,, मड़ेली बस स्टैंड से बस स्टैंड तक रोड अब नहीं बनेगा,,,,,,, क्योंकि रोड बनाने के लिए फिर भूमि का अधिग्रहण करना पड़ेगा और यह लोग नहीं कर पाए हैं,,।।, जो ढांचा है उसका फिर से राशि देना होगा,,।।

guruglobal

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Have Missed!

0 Minutes
गरियाबंद छत्तीसगढ़ ज़िला गरियाबंद ब्रेकिंग-न्यूज राजनीति लोकसभा चुनाव शिक्षा
महिलाओं के सम्मान में, महासमुंद लोकसभा से डॉक्टर श्वेता शर्मा मैदान में।
0 Minutes
राजनीति लोकसभा चुनाव शिक्षा
कांग्रेस ने अंग्रेजों से आजादी दिलाया लेकिन अंग्रेजी कानून देश को अभी भी गुलाम रखी है।, लेकिन भाजपा ने भी कुछ नहीं किया ।
0 Minutes
ब्रेकिंग-न्यूज राजनीति लोकसभा चुनाव विधानसभा चुनाव शिक्षा
लोकतंत्र एवं जनाधार का हत्या पहले कांग्रेस कर चुकी है ,आज बीजेपी कर रही है इसमें कौन सी बड़ी बात है!
0 Minutes
International ब्रेकिंग-न्यूज राजनीति लोकसभा चुनाव शिक्षा
आचार संहिता लगते ही, पॉलिटिकल पार्टियों को छोड़ो सीबीआई ED भी इंडिया गठबंधन की ओर आ जाएगी!