अमित शाह दिखा रहे हैं पंजा, बीजेपी के वोट परसेंट में और लगेगा शिकंजा?

राजनीतिक विशेषज्ञ गोल्डन कुमार:-वर्तमान केंद्र सरकार के गृह मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह छत्तीसगढ़ के चुनाव को देखते हुए दुर्ग आ रहे हैं 22 जून को,, चुनाव नजदीक है आचार संहिता लगने में अब 4महीने शेष है। कर्नाटक चुनाव कांग्रेस जीती है तो कांग्रेसी वो बीजेपी का जीतने का राज मालूम हो गया,, बीजेपी हिंदू मुस्लिम एवं राष्ट्रवाद एवं मतदाता को हिंदू कार्ड एवं इमोशनल तरीके से प्रभावित करके चुनाव जीतती थी, कांग्रेस अब जान चुकी है इसलिए कांग्रेस अब खुद राम के लिए काम कर रही है और छत्तीसगढ़ में राम वन पथ गमन का रास्ता बना रही है बहुत बड़ा प्रोजेक्ट है। एवं गाय बैल करके चुनाव भाजपा जीतती थी, अब कांग्रेस गौठान बना रही है, देश में पहली बार गोबर खरीद रही है,, गोमूत्र खरीद रही है,, एजुकेशन में आत्मानंद स्कूल खोल रही है,, बीजेपी को सत्ता में आने के लिए इनका 51% वोट चाहिए, बीजेपी को मालूम होना चाहिए हमेशा एक पार्टी में वोट देने वाला से चुनाव हार जीत नहीं होती चुनाव जो अपना वोट परिवर्तन करता है उसी से जीत होती है,, छत्तीसगढ़ में किसानों का धान का मूल्य मिल रहा है एवं न्याय योजना से राशि मिल रही है किसान भाजपा की और अपना मत कर ही नहीं सकते। अगर भाजपा धान का मूल्य 5000 क्विंटल का भी घोषणा कर देगी तो भी किसान भरोसा करना मुश्किल है,क्योंकि 2013 के चुनाव में ₹2100 करने का घोषणा हुआ था वह पूरा नहीं कर पाए एवं बोनस धान का धान का बोनस भी नहीं दे पाए जो ₹300 प्रति क्विंटल था। भाजपा को केवल अपने जुड़े हुए कार्यकर्ताओं का वोट, जनता पार्टी से जुड़े हुए लोगों का वोट हासिल करना भी एक प्रकार का मुश्किल है। क्योंकि ,जो लाभ मिल रहा है वर्तमान सरकार की योजनाओं का सबको मिल रहा है। एवं छत्तीसगढ़ में भाजपा के कद्दावर नेता आदिवासी नेता नंदकुमार साय कांग्रेस में आए हैं, साइकोलॉजिकल ढंग से देखें तो कोई भी नेता अपना पार्टी परिवर्तन करता है तो कुछ जमीनी स्तर का राज मालूम होता है इसलिए अन्य पार्टी में जाता है क्योंकि उस पार्टी में आने वाला समय राजनीति सही नहीं है मालूम हो जाता है। वह पार्टी सत्ता में बिल्कुल लौट नहीं सकती उनको मालूम है। मनोवैज्ञानिक रूप से बीजेपी के कार्यकर्ता का मनोबल गिर चुका है। भारत की सबसे बड़ी पार्टी को मालूम नहीं है चुनाव जनता जीताती है और जनता के लिए क्या काम कर रहे हैं। अब रही बात किसानों की यूपीए सरकार में केंद्र की पेट्रोल और डीजल में एक्साइज ड्यूटी 9% था आज 27 परसेंट है,, जनता अब मूर्ख नहीं है समझदार है अगर केंद्र सरकार अपना एक्साइज ड्यूटी 20 परसेंट घटा देती है तो पेट्रोल और डीजल का दाम ₹20 कम हो सकता है। मतलब जनता का शोषण कौन कर रहा है? अमित शाह को मालूम नहीं है। छत्तीसगढ़ और देश की जनता को सब चीज मालूम होना चाहिए।

चलो मान लेते हैं छत्तीसगढ़ में घोटाला हुआ आरोप लगाना कोई बड़ी बात नहीं है कोर्ट में साबित करना होता है आपके नियंत्रण में सीबीआई है प्रवर्तन निदेशालय हैं आईटी है,, अब तक जितने भी मामले आए हैं ब्यूरोक्रेसी से जुड़े हुए लोग की आए हैं, और वही लोग जेल में है, और कल बेल भी में ही रहेंगे, केवल छत्तीसगढ़ के आईएएस और आईपीएस अधिकारी अभी तक नेता का बारे में कोई सबूत नहीं जुटा पाई है,अब तक आपके पकड़ से नेता क्यों बाहर है क्या आपके पास सबूत नहीं है?, अगर सबूत है तो कार्यवाही कीजिए नैतिकता यही है बेवजह हुए आरोप कोई भी लगा देना यह नहीं हो सकता, अगर चुनाव नजदीक में इस प्रकार की कार्रवाई करेंगे तो जनता का असर में आएगा यह राजनीतिक कार्यवाही होगी, क्योंकि सबसे बड़ा अदालत जनता की अदालत होती है,!

बीजेपी का वोट परसेंट और जनाधार जमीनी स्तर पर लगातार घट रहा है, बीजेपी अपना 2018 वाला अपना वोट परसेंट दोबारा लाने के लिए उनके पास सबसे बड़ी चुनौती है, क्योंकि यहां अन्य पार्टी भी चुनावी मैदान में हैं जो बीजेपी के वोट परसेंट को कांग्रेस के anti-incumbency वोट को बीजेपी की ओर जाने से रोक सकते हैं अपने और परिवर्तन कर है। जो कांग्रेस और भाजपा से नाराज मतदाता है वह दूसरे पार्टी की ओर जा सकते हैं क्षेत्रीय पार्टी की ओर जा सकते हैं और इसका सबसे ज्यादा फायदा कांग्रेस को ही मिलेगा क्योंकि फिलहाल कांग्रेस यहां मजबूत है राजनीतिक रूप से, एवं जिस प्रकार से 5 सालों में काम किया है।

छत्तीसगढ़ में 15 सालों के कार्यकाल को देखें तो वोटअपने और आम आदमी पार्टी भी परिवर्तन कर सकती हैं, छत्तीसगढ़ में अभी वर्तमान स्थिति में आम आदमी पार्टी के पास लगभग 10 परसेंट वोट परसेंट दिखाई दे रही है। कांग्रेस से केवल कर्मचारी वर्ग ही नाराज है किसान वर्ग फिलहाल ठीक है एवं कुछ मजदूर वर्ग एवं महंगाई से पीड़ित लोग ही कांग्रेस से अन्य और परिवर्तन हो सकते हैं वह उनका वोट बीजेपी के और जाना मुश्किल है।

ग्लोबल न्यूज़ हमेशा सच ही लिखता है, हम भी यही कहते हैं सत्यमेव जयते सविधान की जीत हो लोकतंत्र देश में रहे, देश में न्याय न्यायपालिका मजबूत हो, एक पुलिस अधिकारी जिसको जनता के पैसे से तनखा मिलता है, देश में करप्शन और भ्रष्टाचार दूर हो इसके लिए ठोस कानून बने, सरकारी टेंडर में कमीशन खोरी बंद हो,उन्होंने हमको कहा तुम जिसका सरकार आता है उसी का काम करते हो पहले बीजेपी के लिए काम करता था अब फलाना के लिए काम कर रहे हो और आगे दूसरे के लिए करोगे लेकिन हम कहते हैं हम हमेशा जनता के तरफ रहते हैं और जनता के लिए ही काम करते हैं, और हमारे साथ हमेशा बहुमत ही रहती है,।

guruglobal

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *