गरीब आदमी इंडियन रेलवे के हिसाब से भेड़ बकरी?

“भारत में गरीब एक गिनी पिग की तरह”भारतीय ट्रेन विश्व के सबसे बड़े चुनिंदा रेल नेटवर्क में से एक है।भारतीय सवारी ट्रेनों का स्ट्रक्चर लगभग एक जैसा सा होता है, यानी इंजन के बाद में या फिर सबसे लास्ट में जनरल डिब्बे और बीच में AC-3, AC-2 AC–1 और फिर स्लीपर कोच लगे होते हैं. लेकिन, क्या कभी आपने ये सोचा है कि आखिर किस वजह से सिटिंग एरेंजमेंट कॉमन होता है.रेलवे की मानें तो वो कहते हैं की सुरक्षा की दृष्टि से ऐसा किया जाता है ताकि आपात काल की स्थिति में लोगों को बचाया जा सके, क्राउड मैनेजमेंट किया जा सके।लेकिन कहानी जस्ट उलट है, एक्सपर्ट का कहना है की बोगियों की पोजिशन में आगे और पीछे जनरल और ठीक बाद में स्लीपर रखे जाते हैं, बीच में AC के कोच होते हैं। इसका कारण टिकिट के मूल्य के आधार पर दी जाने वाली सुरक्षा महत्वपूर्ण कारक है।जब भी ट्रेन दुर्घटना ग्रस्त होती है चाहे आगे से हो या पीछे से तो मध्य में स्थिति AC कोच के यात्रियों को कम नुकसान पहुंचे।देश में एकता समानता सब थोथी बातें तब लगती हैं जब सरकारी तंत्रों में भी दुराभाव पैसे और गरीबी के आधार पर किया जाता है यह विचारणीय है।सिस्टम चेंज करने की बात सभी करते हैं लेकिन करता कोई नहीं और कुर्बानी जनता की ही ली जाती है यही सत्य है, क्योंकि गरीब जनता देश में गिनी पिग है जिसका रोज न रोज कहीं ट्रायल चलता रहता है।##गोल्डन कुमार किसान#शिक्षा_स्वास्थ्य_रोजगार_बिजली_न्याय_फ्री_करो #समता_समानता_का_अधिकार_सबको_हो #संख्यानुपात_आरक्षण_लागू_करो #जातिवाद_वर्णव्यवस्था_खत्म_करो #msp_गारंटी_एक्ट_लागू_करो #मूलभूत_अधिकार_सबका_हक #फसलों_के_फैसले_किसान_करेगा #जातिगत_जनगणना_जरूरी_है #स्वामीनाथन_रिपोर्ट_लागू_करो #BanEVM_SaveFarmers

भारत एक लोकतांत्रिक देश है यहां सब का समान अधिकार है चाहे आदमी करोड़पति हो या गरीब आदमी एक आदमी का अधिकार एक वोट एक आदमी सबका अधिकार है, जिनके बदौलत सरकारें बनती हैं वही गरीब आदमी को भूल जाते हैं वर्तमान केंद्र सरकार ने बुलेट ट्रेन एवं वंदे मातरम ट्रेन में जितना खर्च कर रही है वहीं अन्य एक्सप्रेस ट्रेनों को कम कर रही है भारतीय रेल लाइफ लाइन है, लेकिन सदी के सबसे बड़े ट्रेन हादसे उड़ीसा के बालासोर में जब से हुए हैं यह सवाल उठना लजिब हो गया है,। क्या गरीब आदमी का जान का कीमत अमीर आदमी से कम है। इनका मूल्यांकन कौन कर रहा है। भारत में कानून में समानता का अधिकार है यहां पर कहां समानता का अधिकार है जो ज्यादा पैसा दे रहा है उसको ज्यादा क्षमता और अधिकार मिल रहा है।

सरकार ने अपनी गलती छुपाने के लिए जांच को सीबीआई को सौंप दिया सीबीआई क्या जांच करेगी! हादसा कोरोमंडल एक्सप्रेस लूप लाइन में जाने की वजह से है या तो स्टेशन मास्टर एवं सिग्नल के हिसाब से हुआ सीबीआई क्या जांच करेगी। सीबीआई कई ऐसे मामलों को आज तक जांच नहीं कर पाई है कई पेंडिंग केस इनके के पास है सही समय में जांच होना पुराने मामले भी ऐसी चल रहे हैं।

बल्कि सीबीआई को इस चीज का जांच करना चाहिए रेलवे घाटा में क्यों चल रहा है, इंडियन रेलवे पूंजी पतियों के लिए क्यों काम करने लग गई है आम नागरिकों के लाइफ लाइन है तो आम नागरिकों के लिए कितना पैसा बचा रही है बल्कि रेलवे ने तो वरिष्ठ नागरिकों को मिलने वाला सब्सिडी भी कम कर दिया पैसा आखिर किसके जेब में जा रहा है। प्लेटफार्म टिकट बढ़ गया रेलवे के अंदर गत जाने में गाड़ियों का किराया पार्किंग का रेट बढ़ गया। रेलवे का जमीन का क्या उपयोग हो रहा है।????

guruglobal

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *