बहुत खेले पब्जी, अब फुटपाथ में बेंच सब्जी नौकरियां नहीं है?

भारतीय राष्ट्रीय के कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी कर्नाटक चुनाव में आगाज़ करते हुए वहां जनता से मुख्य रूप से चार वादा किए,1_ग्रेजुएट को 3000 महिला, 2_गरीबों को 200 यूनिट तक मुफ्त बिजली। 3_महिलाओं को ₹2000 महीना, 4_गरीबों को 10 किलो चावल। अब इन सब का विश्लेषण करें तो अब राजनीति अब रोजगार क्या अब नहीं मिलेगा? नौकरी में मिलाना अब मुश्किल हो गया है सरकार के पास नौकरी देने की क्षमता नहीं रही,₹3000 के भत्ता से काम चलाना पड़ेगा? कर्नाटक के जो लड़का/लड़की ग्रेजुएट पास नहीं कर पाया है उसका क्या होगा? क्या सभी महिलाओं को ₹2000 महीना मिलेगा? कर्नाटक सरकार का 1 साल का बजट कितना है क्या खर्च चल जाएगा। फिर सरकार को राजस्व के लिए बाकी ब्यूरोक्रेसी और मूलभूत कार्य के लिए पैसों का व्यवस्था कहां से होगा? देश में जो शासन करने वाले नेता हैं करोड़पति हैं अरबपति हैं और गरीबों को 10 किलो राशन में ही बांधकर के सीमित कर देंगे बाकी खर्चा कहां से चलेगा? क्या कर्नाटक की जनता कांग्रेस पर भरोसा करेगी? वहां फिलहाल मुख्य रूप से तीन पार्टियां हैं कांग्रेस जेडीएस बीजेपी फिलहाल सत्ता में है। आम आदमी पार्टी भी वहां चुनाव लड़ने के लिए एलाऩ कर चुकी है। जो अभी अभी फिलहाल राष्ट्रीय पार्टी बनी है। कॉन्ग्रेस का कर्नाटक में सरकार बन गई तो अन्य राज्यों में ऐसा ही घोषणा हो सकता है?

  • कांग्रेस का घोषणा पत्र सायकोलॉजी ढंग से देखें तो केजरीवाल का पूरा नकल है, मतलब 10 साल पहले पैदा हुई पार्टी 140 साल पुरानी पार्टी को 55 साल देश में राज करने वाली पार्टी को नेतागिरी सिखा दिया।
  • 200 यूनिट का मुफ्त बिजली देश में आर्थिक सामाजिक जनगणना नहीं हुआ है किसको मिलेगा किसको नहीं मिलेगा यह स्पष्ट नहीं है अभी तो घोषणा पत्र में सभी को लिखे हैं।
  • फिर सभी महिलाओं को लिखे हैं, ऐसे में आधा जनसंख्या महिलाओं का होता है, इसमें भारी-भरकम बजट की जरूरत है कहां से पुरा होगा क्या पैसे पेड़ में उगते हैं पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा था।
  • ग्रेजुएट को 3000₹ जो 12वीं पास कर लिया है उसको क्या मिलेगा क्या इसमें भी आयु सीमा रख देंगे, बेरोजगार उसी को मिलेगा, या परिवार को इनकम कम है आय कम है उसी को मिलेगा।
  • गरीबों को 10 किलो अनाज तो देना ही है खाद्य सुरक्षा अधिनियम पास किया है। केंद्र के कांग्रेस सरकार के समय ही लागू हुआ है, गोदाम में रखे रखे अनाज सड़ जाते थे तक माननीय सुप्रीम कोर्ट ने यह टिप्पणी किया था।

guruglobal

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *