बजट के बाद किसानों को मिल सकता है,बकाया बोनस।।

छत्तीसगढ़ विधानसभा में बजट सत्र चालू हो गया है। भूपेश बघेल सरकार को किसानों का सबसे ज्यादा समर्थन मिल रहा है एवं छत्तीसगढ़ की किसान से खुशहाल है। धान का दाम 2023, मैं खरीदी होगा तो 28 सो रुपए प्रति कुंटल मिलेगा यह घोषणा हो चुका है। छत्तीसगढ़ कांग्रेस के घोषणा पत्र में पिछले 2 साल का बकाया बोनस घोषणापत्र में था जिसको पूर्व रमन सिंह सरकार ने किसानों को छत्तीसगढ़ के किसानों को नहीं दिया था उसे भूपेश बघेल सरकार पूरा कर सकती है। राजीव गांधी किसान नया योजना की तर्ज पर किसानों को किस्त की तरह पहले साल का बोनस एवं दूसरे साल का बोनस पुन:चुनाव के बाद नया सरकार बनने के बाद कर पुरा सकती है। किसानों के खाते में जो 2 साल का बकाया बोनस है पहले साल का पैसा डालते ही किसानों को कांग्रेस सरकार के ऊपर भरोसा रहेगा। और यही सोच के साथ पार्टी आगे काम करेगी। मुख्य मंत्री छत्तीसगढ़ शासन भूपेश बघेल है। और कांग्रेस पार्टी का यही स्लोगन छत्तीसगढ़ में रहेगा भूपेश है तो भरोसा है। पिछले साल कर्जमाफी एवं कांग्रेस के ऊपर छत्तीसगढ़ के किसानों ने भरोसा किया था आने वाले समय में भी भरोसा कर सकते हैं क्योंकि कांग्रेस पार्टी उस पर काम कर रही है। पिछले दो हजार अट्ठारह के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी को अपार सफलता मिली थी इस बार भी पूरा क्लीन स्वीप करने का, मकसद से कांग्रेस पार्टी मैदान में उतरेगी। पिछले दो हजार अट्ठारह के चुनाव में जो बीजेपी के कार्यकर्ता थे बीजेपी से जुड़े हुए किसान थे, बढ़-चढ़कर कांग्रेस को ही अपना वोट किए थे। और ऐसा रहा तो फिर ऐसा ही बिल्कुल संभावना है करेंगे। छत्तीसगढ़ का विधानसभा चुनाव केंद्र सरकार के विजन क हिसाब से होगा कांग्रेस केंद्र सरकार में आने के बाद उनके हिसाब से घोषणाएं पत्र होंगी। किसान काला कानून से जिसे वापस लिया गया मोदी सरकार किसान विरोधी मानसिकता सामने आ चुकी थी। केंद्र की मोदी सरकार से देश के किसानों को धोखा ही मिला है। 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का वादा था अब 23_24 आने वाला है,

छत्तीसगढ़ को धान का कटोरा कहते हैं रवि फसल में धान उत्पादन में छत्तीसगढ़ का बहुत योगदान है। रवि फसल के धान उसना चावल बनता है जो बंगाल बिहार उड़ीसा एवं दक्षिण भारत के राज्यों में यहां से सप्लाई होती है। और आने वाला समय में एथेनाल बनाने का परमिशन अगर केंद्र सरकार दे दिया तो रवि फसल के धान को भी छत्तीसगढ़ सरकार समर्थन मूल्य में खरीद सकती है। रवि फसल उत्पादन करने वाले किसान मजदूर कांग्रेस पार्टी को ही समर्थन आने वाला समय में कर सकते हैं। छत्तीसगढ़ के चावल विदेश में भी भेजने का डिमांड हो सकता है क्योंकि रूस यूक्रेन युद्ध के कारण दुनिया भर में खाद्य संकट लगातार सामने आ रहा है। जल स्तर को नीचे जाते हुए देख कर आने वाला समय में छत्तीसगढ़ गेहूं उत्पादन में भी बढ़ोतरी कर सकती है।
श्री गुरु ग्लोबल न्यूज के संपादक गोल्डन कुमार स्वयं किसान है। उनके खेतों के गेहूं का बलियां निकल चुकी है। होली के बाद पक कर तैयार हो जाने की संभावना है। एवं हम सभी से निवेदन करते हैं सरकारी कृषि विभाग विकासखंड छुरा जिला गरियाबंद,से आप गेहूं बीज कभी नहीं खरीदे, ढंग से बीज नहीं आती है। शासन और प्रशासन को भी मालूम रहता है अधिकतर सब्सिडी वाले गेहूं पीसा कर खाने के लिए ले जाते हैं बोते ,कम कम है,। अगर आपको विश्वास नहीं है तो सब्सिडी में मिले हुए किसानों का आप सूची देख सकते हैं कितना ने ले गया और कितना ने बोया। एवं श्री गुरु ग्लोबल न्यूज की ओर से होली 2023 की आपको शुभकामनाएं बधाई आपके जीवन में रंग खुशियों का भर दे। एवं ग्लोबल न्यूज़ की तरफ से बुरा न मानो होली है।

guruglobal

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *