विधायक उपाध्याय का अध्याय शुरू हुआ या खत्म हो गया?#2013,

छत्तीसगढ़ का प्रयाग राज कहे जाने वाला राजिम,विधानसभा काफी वीआई पी विधानसभा सीट में गिनती होती है। यहां से स्वर्गीय श्यामाचरण शुक्ल चुनाव जीतकर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री तक बने हैं,। उन्हीं का आशीर्वाद है और क्षेत्र के किसानों के लिए कई बड़े बड़े डैम का अपने कार्यकाल में निर्माण कराएं। उन्हीं का आशीर्वाद क्षेत्र के जनता उनके पुत्र अमितेश शुक्ल को चुनाव में अपार सफलता मिलती है। राजिम विधानसभा की आज से ठीक 10 साल पहले की राजनीतिक की चर्चा करते हैं। 2010 के पंचायत चुनाव में डां.श्वेता शर्मा जिला पंचायत सदस्य बनी, बीजेपी से टिकट नहीं मिलने के कारण बीजेपी से बगावत करके विधानसभा चुनाव लड़ी थी। अमितेश शुक्ल को मिलने वाला वोट कट गया और संतोष उपाध्याय 2013 में विधायक बन गए और अमितेश शुक्ल को हार का सामना करना पड़ा। श्वेता शर्मा फिलहाल भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश कार्यकारिणी की सदस्य है और उनका राजिम विधानसभा क्षेत्र में फिर अपने क्षेत्र के दौरा और कार्यक्रम फिर शुरू कर दिया गया है। उनके समर्थक उनको सोशल मीडिया में विधानसभा राजिम का उम्मीदवार भी घोषित करना शुरू कर दिए हैं। हर गांव में उनके त्यौहार और नए साल की बधाई वाले शुभकामनाएं वाले पोस्टर हर गांव में दिखाई देने लग गए हैं। बीजेपी के छत्तीसगढ़ प्रभारी में भी बयान दिए थे मीडिया में इस बार छत्तीसगढ़ में नए उम्मीदवारों पर भरोसा किया जाएगा। नए लोगों को विधानसभा का टिकट दिया जाएगा। 2018 में यह का छत्तीसगढ़ में काफी खराब प्रदर्शन रहा है केवल 15 सीट में सफलता मिली थी दो हजार अट्ठारह में राजिम विधानसभा से संतोष उपाध्याय भी हार गए।

विकास यात्रा में 2018 में ग्लोबल न्यूज़ के संपादक गोल्डन कुमार विधायक महोदय, से ग्राम खैरझिटी में मुलाकात हुआ, था,। छुरा जाने वाले रास्ते के दोनों पुल, लोहझर खैरझिटी,नाला के पुल का निर्माण हो गया था। हमने जरगांव पुल के लिए निर्माण के लिए एप्लीकेशन दिए और विधायक से बोले 15साल विकास ही किए थे तो जरगांव होकर टाटा सफारी से छुरा जाना था। विधायक जी हमसे बोले जो 70 साल में नहीं हुआ हम विकास कर रहे हैं। लेकिन जरगांव पूल कांग्रेस सरकार ने स्वीकृत किया है और कार्य प्रगति पर है। 10 जनवरी 2023 को जरगांव में मड़ई मेला है।
क्षेत्र क्रमांक 5 से श्वेता शर्मा जिला पंचायत सदस्य बन कर जिला गरियाबंद की जिला पंचायत अध्यक्ष बनी थी उस क्षेत्र वर्तमान में जिला पंचायत सदस्य है श्रीमती लक्ष्मी अरुण साहू। जिला पंचायत अध्यक्ष की रेस में थी मात्र 1 वोट से नहीं बन पाई। एवं वन विभाग की कैंपा की सदस्य है। एवं पिछड़ा वर्ग ओबीसी समाज से आती है एवं महिला भी है। और छत्तीसगढ़ कांग्रेस की प्रभारी कुमारी शैलजा भी महिला है इस बार महिलाओं को इस क्षेत्र से उम्मीद है राजिम विधानसभा से अब तक इतिहास देखें तो कोई भी महिला विधायक नहीं बनी है। लक्ष्मी साहू से भी क्षेत्र की जनता को उम्मीद है।
विधायक अमितेश शुक्ला जी लोकप्रिय नेता है ग्लोबल न्यूज़ से उनसे मात्रा यही समस्या शिकायत है मेरे सपनों का राजिम विधानसभा, स्वर्गीय श्यामाचरण शुक्ला के कार्यकाल के मात्र एक ही डैम बचा है पिपरछेड़ी डैम, जल्द निर्माण करें, क्षेत्र में भूमिगत जल स्रोत गहरा होते जा रहा है, किसानों को सिंचाई में दिक्कत होती है, डैम के बनने से राजिम क्षेत्र खुशहाल हुआ है वैसे हमारा क्षेत्र भी खुशहाल हो जाएगा, उनसे इस मुद्दे पर चर्चा किए तो पता चला, केंद्र की मोदी सरकार के कारण इस डैम के कार्य में रुकावट आ गया है। भाजपा किसान विरोधी है? छत्तीसगढ़ भाजपा 15 साल के कार्यकाल में किसानों के लिए कितने डैम का निर्माण किए यह जनता को जरूर बताएं?
श्वेता शर्मा जिला गरियाबंद क्षेत्र क्रमांक 5 से 2015 में फिर जिला पंचायत सदस्य बनकर जिला गरियाबंद की जिला पंचायत अध्यक्ष की कार्य काल कार्य कर चुकी है। उनके ही कार्यकाल में शौचालय घर-घर शौचालय बना है और गरियाबंद जिला में कोई शौच के लिए बाहर नहीं जाते हैं। राजिम विधानसभा की महिलाएं लोटा लेकर बाहर नहीं जाती हैं अगर जिसके यहां जो भी शिकायत है इनसे और इनके समर्थक से साझा कर सकते हैं। एवं जिनके मिट्टी के मकान है आवास नहीं मिला है क्यों नहीं मिला है इनके समर्थक से पूछ सकते हैं। इनके 2015 से 2020 तक के जिला पंचायत अध्यक्ष के कार्यकाल का डाटा निकाल कर देख सकते हैं।

guruglobal

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *